अरुणाचल प्रदेश का कला संग्रहालय

बोमडिला से वापसी की उत्साह पूर्ण यात्रा – अरुणाचल प्रदेश

अरुणाचल प्रदेश की यात्रा के दौरान हम बोमडिला और टेंगा घाटी का दौरा कर चुके थे। मेरी पूरी उत्तर पूर्वीय यात्रा की सबसे अप्रतिम बात अगर कोई है तो वह है अरुणाचल प्रदेश की...
हैदराबाद के संग्रहालय

अद्भुद हैदराबाद संग्रहालय जो आपको अपनी ही दुनिया में ले जाएँ

हैदराबाद का विविधताओं से भरा एक लंबा इतिहास है। दक्खन के पठारों में प्राकृतिक रूप से संतुलन बिठाये अनोखी प्राचीन चट्टानें हैं जो इसकी प्राचीनतम रचना हैं। एक ओर इसके आदिवासी रहवासी हैं जिनके...
होरी ठुमरी

होरी ठुमरी – रंगों में सराबोर करते होली के चंचल गीत

होली! जी हाँ रंगों, अठखेलियों तथा उत्साह से भरपूर वसंत का पर्व जो सबके अन्तरंग तथा बहिरंग को रंगों भरी खुशियों से भर देता है। यह पर्व हमारे जीवन के विभिन्न आयामों जैसे संस्कार,धर्म,...
गंगा आरती दशाश्वमेध घाट वाराणसी

वाराणसी के दशाश्वमेध घाट में गंगा जी की दर्शनीय आरती

वाराणसी के दशाश्वमेध घाट में गंगाजी की आरती एक विलोभनीय दृश्य है। नदियों को पूजने की भारत की प्राचीन परंपरा को नवीनता प्रदान कर विभिन्न जन समुदायों को कैसे आकर्षित किया जाता है, गंगाजी...
नाको - हिमाचल प्रदेश का एक आदर्श गाँव

नाको हिमाचल प्रदेश – एक पवित्र झील और प्राचीन मठ

नाको एक छोटा सा बौद्ध ग्राम है जो स्पीति घाटी के किनारे एक दूरस्थ पहाड़ी पर बसा हुआ है। वैसे तो यह गाँव किन्नौर जिले में पड़ता है, लेकिन यहाँ का रहन-सहन सबकुछ अधिकतर...
रामलिंगेश्वर मंदिर समूह अवनी कर्णाटक

अवनी-कोलार का रामायणकालीन रामलिंगेश्वर मंदिर समूह

सम्पूर्ण दक्षिण भारत, विलक्षण वास्तुकला युक्त आकर्षक मंदिरों से परिपूर्ण है। अवनी का रामलिंगेश्वर मंदिर समूह भी ऐसे ही दर्शनीय एवं अद्भुत मंदिरों का एक समूह है जो कर्नाटक के कोलार नगर के पास...
कुम्भ मेला - मानवता का सबसे बड़ा और प्राचीनतम मेला

प्रयागराज में कुंभ मेला २०१९- प्रस्थान पूर्व आवश्यक जानकारी

कुंभ मेला अपने नाम के अनुसार एक पूर्णतय: भरे घड़े के सामान है। इसके भीतर वास्तव में क्या है इसकी व्याख्या करना कठिन है। आप जितना अधिक इसे देखेंगे, अनुभव करेंगे तथा इसमें भाग...

नैमिषारण्य – वेदों, पुराणों, सत्यनारायण कथा एवं ८८,००० ऋषियों की तपोभूमि

हम में से जिन्होने भी हिन्दू धर्मं ग्रन्थ पढ़े हों उनके समक्ष नैमिषारण्य, इस सुन्दर शब्द का उल्लेख कई बार आया होगा। नैमिषारण्य लखनऊ से लगभग ९० की.मी. दूर, सीतापुर जिले में गोमती नदी...
कालिदास की नाट्यशाला

कालिदास की नाट्यशाला – रामगढ छत्तीसगढ़ की एक प्राचीन धरोहर

संस्कृत के महान कवि कालिदास के बारे तो आप सब जानते ही हैं। उनकी कथाओं, काव्यों और अन्य साहित्यिक कृतियों से भी आप अवश्य परिचित होंगे; लेकिन क्या आप भारत में स्थित उनसे जुड़ी...
महर्षि महेश योगी और उनके सुप्रसिद्ध शिष्य

ऋषिकेश की ८४ कुटिया – महर्षि महेश योगी आश्रम के अवशेष

८४, यह अंक हिन्दू मान्यताओं के अनुसार एक महत्वपूर्ण अंक है। ऐसा माना जाता है कि इस धरती पर लगभग ८४ लाख प्रजातियाँ हैं। एक अन्य मान्यता के अनुसार जीवात्मा ८४ लाख योनियों में...

सोशल मीडिया पर जुड़िये

155,028FansLike
3,472FollowersFollow
18,859FollowersFollow
5,348SubscribersSubscribe

लोकप्रिय प्रविष्टियाँ