जय प्रकाश यन्त्र - जंतर मंतर जयपुर

जंतर मंतर जयपुर की अद्भुत सवाई जयसिंह वेधशाला

क्या आपकी गणित एवं आकलन इत्यादि विषयों में रूचि है? क्या विज्ञान एवं खगोलशास्त्र आपको प्रेरित करते हैं? तो मेरे पास आपके लिए एक अति उत्तम दर्शनीय स्थल का सुझाव है। जंतर मंतर। जी...
शिमला नारकंडा थानेधार का मान चित्र

नारकंडा और ठानेधार – हिमाचल प्रदेश के दो खूबसूरत पर्यटक स्थल

नारकंडा शिमला से कुछ ही आगे बसा हुआ एक छोटा सा सुंदर शहर है। यह हिमाचल प्रदेश का सबसे प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है। जो लोग शिमला के पार जाना चाहते हैं पर स्पीति घाटी...
कांची कामाक्षी मंदिर का गोपुरम

श्री कांची कामाक्षी मंदिर- प्राचीन नगरी कांचीपुरम की आत्मा

कांची कामाक्षी मंदिर, कांचीपुरम का हृदयस्थल! वस्तुतः संपूर्ण कांचीपुरम नगरी कामाक्षी मंदिर के चारों ओर बसी है। शिव एवं विष्णु जैसे देव- देवता भी कामाक्षी मंदिर को घेरे हुए तथा वहां से उत्सर्जित होते...
प्राचीन रुक्मिणी मंदिर - द्वारका

रुक्मिणी मंदिर – द्वारका की रानी से एक साक्षात्कार

बालपन से ही हमने पढ़ा व सुना था कि श्री कृष्ण की पहली रानी रुक्मिणी थी। कहने का अर्थ है कि उन्होंने सर्वप्रथम रुक्मिणी से विवाह किया था। तत्पश्चात आयीं सत्यभामा, जाम्बवती तथा अन्य।...
पुरखौती मुक्तांगन की दीवारों पे चित्रकारी

पुरखौती मुक्तांगन – पूर्वजों को समर्पित भावपूर्ण श्रद्धांजलि, नया रायपुर 

नए रायपुर की चौड़ी, व्यापक और बिजली के खंबों से पंक्तिबद्ध सड़कें आपको इस 200 एकड़ के संस्कृति और विरासत से जुड़े संग्रहालय तक ले जाती हैं, जिसे पुरखौती मुक्तांगन कहा जाता है। जब...
राजाजी राष्ट्रीय उद्यान - उत्तराखण्ड

राजाजी राष्ट्रीय उद्यान – चीला आरक्षित वन के वन्यजीवन का आनंद उठायें

मैंने अपने जीवन में अनेकों बार ऋषिकेश की यात्रा की है। हर बार राजाजी राष्ट्रीय उद्यान का दर्शन किसी ना किसी कारणवश छूट जाता था। इस बार जब में हरिद्वार गयी, मुझे गढ़वाल मंडल...
महेश्वर के पर्यटक स्थल

महेश्वर – नर्मदा के चरणों में अहिल्या बाई होलकर की प्राचीन नगरी

महेश्वर यानि रानी अहिल्या बाई होलकर की नगरी! रानी अहिल्या बाई ने होलकर की राजधानी को इंदौर से नर्मदा किनारे स्थित महेश्वर में स्थानांतरित किया तथा यहीं से उन्होंने शासन किया। भगवान् शिव एवं...
सावंतवाड़ी का सुप्रसिद्ध लकड़ी का काम

सावंतवाड़ी – कोंकण किनार पट्टी का कला बाजार, महाराष्ट्र

गोवा राज्य की उत्तरीय सीमा पार करते ही आप सावंतवाड़ी में पहुँच जाते हैं। गोवा से मुंबई जाते समय या फिर मुंबई से गोवा आते समय रास्ते में आपको सावंतवाड़ी जरूर मिलता है। अगर...
बिदरी धातु शिल्प कैसे बनती है?

बिदरी धातु-शिल्पकला सृजन का प्रत्यक्ष दर्शन

काले स्याह जस्ते अर्थात् जिंक पर उज्जवल सजीली नक्काशी, ऐसी कलाकारी आप सभी ने अवश्य देखी होगी। इसे देख आपको वर्षा ऋतु की काली रात्री में स्याह घटाओं के पीछे से चन्द्रमा की चमकती...
कार्तिक मास महात्मय - स्कन्द पुराण

कार्तिक मास की तीर्थ यात्रायें – स्कन्दपुराण कार्तिक मास माहात्म्य

कार्तिक मास भगवान् विष्णु को सदा ही प्रिय है। कार्तिक सब मासों में उत्तम है। इस महीने में तैंतीसों देवता मनुष्य के सन्निकट हो जाते हैं तथा इस माह में किये हुए व्रत-स्नान, भोजन,...

सोशल मीडिया पर जुड़िये

155,811FansLike
3,508FollowersFollow
17,773FollowersFollow
4,909SubscribersSubscribe

लोकप्रिय प्रविष्टियाँ