बिसरख मंदिर में रावण

बिसरख – रावण का जन्मस्थान ग्रेटर नोएडा का प्राचीन गाँव

0
बिसरख, यह नाम ऋषि विश्रवा के नाम से व्युत्पत्त है। काल के साथ अपभ्रंशित होते हुए यह नाम बिसरख में परिवर्तित हो गया। ऋषि विश्रवा दशमुख रावण के पिता थे। कुछ सूत्रों के अनुसार...
संत तुकाराम महाराज

देहू – संत तुकाराम की पावन नगरी

0
महाराष्ट्र भक्ति आंदोलन के संत-कवियों की भूमि रही है। वहाँ के सर्वाधिक लोकप्रिय संतों में एक नाम है, देहू के संत तुकाराम! उन्हे उनके सर्वप्रिय, सरल व अत्यंत मार्मिक अभंगों के लिए जाना जाता...

छतिया बट मंदिर सत्य युग का अग्रदूत

0
छतिया बट मंदिर स्वयं में एक अनूठा मंदिर है जो उत्कल (ओडिशा) प्रदेश के जाजपुर एवं कटक के मध्य स्थित छतिया ग्राम में स्थित है। सतही रूप से देखा जाए तो यह जगन्नाथ, बलभद्र एवं...
बनशंकरी अम्मा मंदिर बादामी में

बनशंकरी अम्मा मंदिर – बादामी उत्तर कर्णाटक का एक शक्तिपीठ

0
श्री बादामी बनशंकरी देवी की पूजा-आराधना स्वर्णिम कर्नाटक के चालुक्य काल से चली आ रही है। कर्णाटक के बागलकोट जिले में बादामी तालुका में स्थित बनशंकरी मंदिर उत्तर कर्णाटक का एक प्रसिद्ध शक्तिपीठ है।...
शेषनाग

पाताल भुवनेश्वर : कुमाओं की भूमिगत गुहानगरी

1
भूमिगत गुहानगरी पाताल भुवनेश्वर! हिमालय की गोद में विराजमान है एक ऐसी भूमिगत नगरी जिसे देख आप अचंभित हो जाएंगे। वह नगरी है, पाताल भुवनेश्वर जिसका प्रवेश द्वार देवभूमि उत्तराखंड राज्य के कुमाओं क्षेत्र...
ब्राह्मी लिपि - बिहार संग्रहालय

पटना का बिहार संग्रहालय – अप्रतिम कलाकृतियों का संग्रह देखें

0
पटना नगर के मध्य में स्थित बिहार संग्रहालय अप्रतिम कलाकृतियों का अद्भुत संग्रह है। इस संग्रहालय का सर्वाधिक विशेष तत्व इसकी रूपरेखा है। इस संग्रहालय में बिहार के इतिहास एवं धरोहर को सुंदर रीति...
कुम्भलगढ़ दुर्ग

कुम्भलगढ़ दुर्ग – राजपूत वीरों की पावन भूमि

0
कुम्भलगढ़ दुर्ग राजस्थान के राजसमंद जिले में स्थित अरावली पर्वतों के पश्चिमी श्रंखलाओं में गर्व से खड़ा मेवाड़ का एक किला है। यह दुर्ग राजस्थान के लोकप्रिय पर्यटन सूची में कदाचित ना हो किन्तु...
कंदरिया महादेव और जगदम्बी मंदिर - खजुराहो

कंदरिया महादेव मंदिर- खजुराहो का विश्व धरोहर स्थल

0
खजुराहो स्थित कंदरिया महादेव मंदिर उत्तर भारतीय मंदिर स्थापत्य शैली का एक उत्कृष्ट प्रतीक है। १०-११वीं सदी में निर्मित यह मणि चंदेल वंश के राजाओं की देन है। चंदेल साम्राज्य को जेजाकभुक्ति कहा जाता...
सिक्किम के स्मृति चिन्ह

सिक्किम के १२ सर्वोत्तम स्मृति चिन्ह

0
क्या आप सिक्किम भ्रमण के लिए जा रहे हैं? क्या आप यह विचार कर रहे हैं कि सिक्किम से कौन कौन सी विशेष वस्तुएँ स्मृति चिन्हों के रूप में ला सकते हैं? यह संस्करण...
देवघर चौक अनुराधा गोयल

चिटनवीस वाड़ा नागपुर की एक अद्भुत धरोहर

1
वाड़ा, यह शब्द आप सबने सुना होगा। पुणे का शनिवार वाड़ा एक लोकप्रिय दर्शनीय स्थल है जिसे आप में से अनेक पाठकों ने देखा भी होगा । महाराष्ट्र में राजा - महाराजा तथा अन्य...

सोशल मीडिया पर जुड़िये

149,899FansLike
6,729FollowersFollow
962FollowersFollow
29,289FollowersFollow
16,314SubscribersSubscribe

लोकप्रिय प्रविष्टियाँ