जयपुर में क्या खरीदें

जयपुर राजस्थान जाएँ को क्या क्या खरीद कर लायें?

0
खरीददारी हेतु मेरे प्रिय स्थलों की सूची में जहां एक ओर पुरानी दिल्ली के बाजार हैं तो दूसरी ओर जयपुर के बाजारों का भी प्रमुख स्थान है। विभिन्न रंगों से परिपूर्ण जयपुर के बाजार...
शाही समाधान के मंदिर से शिखर

जींद रियासत की भूतपूर्व राजधानी- संगरूर के पर्यटक स्थल

0
कल के बिना आज संभव नहीं। किन्तु आज केवल उनकी स्मृतियाँ ही शेष रह गई हैं। बीते हुए कल की स्मृतियाँ मन-मस्तिष्क में सदा के लिए घर कर जाती हैं। छोटे-बड़े नगरों की अनेक...
Ashtabhuja Sanjhi in Vrindavan

सांझी कला – ब्रज वृंदावन की पारंपरिक अलंकरण कला

0
सांझी कला सांस्कृतिक रूप से धनी, ब्रज में प्रचलित अनेक कला क्षेत्रों में से एक है। भगवान कृष्ण से संबंधित सांस्कृतिक पृष्ठभूमि होने के फलस्वरूप ब्रज प्राचीन काल से ही विभिन्न लोक शैलियों का महत्वपूर्ण...
सम्राट अशोक का शिलालेख ३ री ईपू

सोपारा: मुंबई के पास स्थित मंदिर, पोत, तीर्थ एवं पर्यटक स्थल

4
मुंबई भारत की वित्तीय राजधानी है। लोकप्रिय मान्यता यह कहती है कि मुंबई महानगर के यशस्वी इतिहास का आरंभ औपनिवेशिक काल के साथ होता है। किन्तु वास्तविकता यह है कि केवल आज के आधुनिक...

पश्चिमी सिक्किम में पेलिङ्ग के पर्यटक स्थल – मठ, झरने, झील

4
सिक्किम एवं बंगाल की हमारी तीन सप्ताह की यात्रा में पेलिङ्ग हमारा प्रथम गंतव्य था। पेलिङ्ग के दर्शनीय स्थलों के विषय में जो मैंने खोज की थी उसके निष्कर्ष स्वरूप मुझे कुछ बौद्ध मठ,...

श्री जगन्नाथ पुरी मंदिर की उत्कृष्ट विशेषताएं एवं दर्शनीय स्थल

5
जगन्नाथ पुरी भारत के सर्वाधिक महत्वपूर्ण तीर्थस्थलों में से एक है। भारत के पूर्वी तट पर स्थित यह धाम भगवान विष्णु के अखिल ब्रम्हांड नायक स्वरूप को समर्पित है। उन्हे भगवान विष्णु का वह...
शाकाहारी भारतीय थाली

१५ सर्वोत्तम शाकाहारी भारतीय थाली भोजन का स्वाद चखें!

6
भारतीय थाली अर्थात स्वाद व सुगंध का भव्य उत्सव। इसे चखना किसे प्रिय नहीं होगा? यदि आप भारतीय हैं तो आप भलीभाँति जानते होंगे कि सम्पूर्ण भारत के विभिन्न क्षेत्रों में उनकी संस्कृति को गौरवान्वित...
नटराज मंदिर चिदमबरम

चिदंबरम का नटराज मंदिर – शिव के आनंद तांडव का स्थल

4
चिदंबरम, अधिकांश उत्तर भारतीयों के लिए यह केवल एक प्रसिद्ध राजनीतिज्ञ का नाम है। अधिक से अधिक यह उस गाँव का नाम होगा जहां के वे निवासी हैं। चिदंबरम का महत्व आप तभी जान...
मूल द्वारका मंदिर परिसर प्रवेश द्वार

द्वारका गुजरात के आसपास बिखरे प्राचीन तीर्थ स्थान

4
स्कन्द पुराण के अनुसार द्वारका नगरी को ऐतिहासिक रूप से प्रभास क्षेत्र का ही एक भाग माना जाता है। प्रभास एक संस्कृत शब्द है जिसका अर्थ है, दीप्तिवान, ज्योतिर्मय, प्रकाशवान, अर्थात जो प्रकाश उत्पन्न...
मेड़ता में मीराबाई स्मारक में मीरा की मूर्ति

मेड़ता – संत एवं कवयित्री मीराबाई की जन्मभूमि

12
मीराबाई हम में से कई पाठकों के लिए चिर परिचित नाम है। हम सब उन्हे मध्य-युगीन भारत में चितोड़गढ़ की रानी के रूप में तो जानते ही हैं, साथ ही यदि मैं उन्हे भारत...

सोशल मीडिया पर जुड़िये

150,079FansLike
6,729FollowersFollow
914FollowersFollow
23,607FollowersFollow
8,650SubscribersSubscribe

लोकप्रिय प्रविष्टियाँ