नंदा देवी की राजजात यात्रा १२ वर्षों में एक बार हिमालय की और

0
875
ॐ हिमाद्रिका हिमांगिनी नगाधिराज वासिनी
बिन्ध्य  नाम नंदजा नंदा कोट वासिनीम्।
नन्दा देवी की डोली राजजात यात्रा पर
नंदा देवी राजजात यात्रा डोली. चित्र – Shutterstock.

संस्कृतियों और परम्पराओं से सम्पन्न देवभूमि  उत्तराखंड की विरासत इतनी विशाल है कि उसे किसी भी लेखनी में समाहित नही किया जा सकता है। यहां पंच केदार , पंच प्रयाग और पंच बदरी अपने नैसर्गिक स्वरूप में विद्यमान हैं। साल भर अनेकों मेले और धार्मिक अनुष्ठानों का आयोजन होता है इसी में सम्मिलित है माँ नंदा देवी की राजजात यात्रा।

नंदा देवी

लोक इतिहास के अनुसार नन्दा देवी गढ़वाल के राजाओं के साथ-साथ कुँमाऊ के कत्युरी राजवंश की ईष्टदेवी थी। इष्टदेवी होने के कारण नन्दा देवी को राजराजेश्वरी कहकर सम्बोधित किया जाता है। नन्दादेवी को पार्वती की बहन के रूप में देखा जाता है परन्तु कहीं-कहीं नन्दादेवी को ही पार्वती का रूप माना गया है।
नंदा देवी डोली
नंदा देवी डोली – चमोली, चित्र – Shutterstock.

मान्यता है कि एक बार नंदा अपने मायके आई थीं। लेकिन किन्हीं कारणों से वह 12 वर्ष तक ससुराल नहीं जा सकीं। बाद में उन्हें आदर-सत्कार के साथ ससुराल भेजा गया। मां नंदा को उनकी ससुराल भेजने की यात्रा ही है राजजात यात्रा। मां नंदा को भगवान शिव की पत्नी माना जाता है और कैलाश (हिमालय) भगवान शिव का निवास।

इस यात्रा में चमोली जिले में पट्टी चांदपुर और श्रीगुरु क्षेत्र को मां नंदा का मायका और बधाण क्षेत्र (नंदाक क्षेत्र) को उनकी ससुराल माना जाता है। माँ नन्दा भगवान शिव भोलेनाथ की अर्धांगिनी और उत्तराखंड हिमालय की पुत्री हैं, वह इस यात्रा के माध्यम से अपने ससुराल यानी कैलाश पर्वत जाती हैं। हर साल भाद्रपद शुक्ल एकादशी के दिन यह यात्रा आरंभ होती है।

यात्रा पथ

हिमालयी महाकुंभ के नाम से विख्यात व विश्व की सबसे लम्बी व पैदल धार्मिक यात्रा का गौरव प्राप्त नंदा देवी राजजात यात्रा 12 वर्ष में बड़ी जात कहा जाता है जो बहुत वृहद रुप में मनाई जाती है जिसमें कि सारे देश विदेश के श्रद्धालु शामिल होते हैं और हर वर्ष इसे छोटी जात में रूप में मनाया जाता है। यह यात्रा अपने आप में दिव्य, अद्‌भुत व रोमांचकारी यात्रा है। इस ऐतिहासिक यात्रा को गढ़वाल-कुमाऊं के सांस्कृतिक मिलन का प्रतीक भी माना जाता है। जैसा की सब जानते हैं कुमाऊँ और गढ़वाल उत्तराखंड के दो भाग हैं। अगली बड़ी जात यात्रा २०२५ में होगी।
नंदा देवी यात्रा पथ
नंदा देवी यात्रा पथ, चित्र – लेखिका

नंदादेवी की यह ऐतिहासिक यात्रा श्री बदरीनाथ चमोली जनपद नन्दा नगर घाट कुरुड़ गांव के दिव्य प्राचीन मंन्दिर से नन्दा देवी की डोली के साथ यात्रा का शुभारंभ होता है। कुरूड़ के मन्दिर से दशोली और बधॉण की डोलियाँ जात का शुभारम्भ करती हैं। इस यात्रा में लगभग २५० किलोमीटर की दूरी, कुरुड़ से होमकुण्ड तक पैदल करनी पड़ती है। इस दौरान घने जंगलों पथरीले मार्गों, दुर्गम चोटियों और बर्फीले पहाड़ों को पार करना पड़ता है।

नंदा देवी भगौती
नंदा देवी भगौती – चित्र – आलोक भट्ट

इसका पहला पड़ाव 10 किलोमीटर पर ईड़ा बधाणी है। उसके बाद दो पड़ाव नौटी में होते हैं। नौटी के बाद सेम, कोटी, भगोती, कुलसारी, चेपड़ियूं, नन्दकेशरी, फल्दिया गांव, मुन्दोली, वाण, गैरोलीपातल, पातरनचौणियां होते हुये यात्रा शिलासमुद्र होते हुये अपने गन्तव्य होमकुण्ड पहुंचती है। इस यात्रा के दौरान लोहाजंग ऐसा पड़ाव है जहां आज भी बड़े पत्थरों और पेड़ों पर लोहे के तीर चुभे हुये हैं। कुछ तीर संग्रहालयों के लिये निकाल लिये गये हैं। इस स्थान पर कभी भयंकर युद्ध होने का अनुमान लगाया जाता है।

और पढ़िए – बिनसर कुमाऊँ में वैभवशाली हिमालय के दर्शन

रूपकुंड

रूपकुंड की और जाती हुई यात्रा
रूपकुंड की और जाती हुई यात्रा, चित्र – आलोक भट्ट

राजजात के मार्ग में हिमाच्छादित शिखरों से घिरी रूपकुण्ड झील है जिसके रहस्यों को सुलझाने के लिये भारत ही नहीें बल्कि दुनियां के कई देशों के वैज्ञानिक दशकों से अध्ययन कर रहे हैं। कोई रोक टोक न होने के कारण समुद्रतल से 16200 फुट की उंचाई पर स्थित रूपकुण्ड झील से देश विदेश के वैज्ञानिक बोरों में भर कर अतीत के रहस्यों का खजाना समेटे हुये ये नर कंकाल और अन्य अवशेष उठा कर ले गये हैं। फिर भी मानव बस्तियों से बहुत ऊपर इस झील के किनारे अब भी कई कंकाल पड़े हैं। कुछ कंकालों पर मांस तक पाया गया है। कंकालों के साथ ही आभूषण, राजस्थानी जूते, पान सुपारी, के दाग लगे दांत, शंख, शंख की चूड़ियां आदि सामग्री बिखरी पड़ी है। इन सेकड़ों कंकालों का पता सबसे पहले 1942 में एक वन रेंजर ने लगाया था।

खाडू भेड़
खाडू भेड़, चित्र – Shutterstock.

इसके साथ ही इस ऐतिहासिक यात्रा का नेतृत्व करने के लिए चौसिंग्या(चार सिंग ) खाडू भेड की तलाश भी शुरू हो जाता है। यात्रा से पहले इस तरह का विचित्र भेढ चांदपुर और दशोली पट्टियों के गावों में से कहीं भी जन्म लेता रहा है। इस यात्रा में चौसिंग्या खाडू़ (चार सींगों वाला भेड़) का विशेष महत्व है जोकि स्थानीय क्षेत्र में राजजात का समय आने के पूर्व ही पैदा हो जाता है। उसकी पीठ पर रखे गये दोतरफा थैले में श्रद्धालु गहने, श्रंगार-सामग्री व अन्य हल्की भैंट देवी के लिए रखते हैं, जोकि होमकुण्ड में पूजा होने के बाद आगे हिमालय की ओर प्रस्थान कर लेता है। लोगों की मान्यता है कि चौसिंग्या खाडू़ आगे हिमालय की पर्वत सृंखलाओं में जाकर लुप्त हो जाता है व नंदादेवी के क्षेत्र कैलाश में प्रवेश कर जाता है।

नंदा देवी की प्रतीक्षा में
नंदा देवी की प्रतीक्षा में, चित्र – आलोक भट्ट

विशेष कारीगरी से बनीं रिंगाल की छंतोलियों, डोलियों और निशानों के साथ लगभग 200 स्थानीय देवी देवता इस महायात्रा में शामिल होते हैं। समुद्रतल से 13200 फुट की उंचाई पर स्थित इस यात्रा के गन्तव्य पैदल रहस्यमयी रूपकुंड होकर हेमकुंड तक जाती है।

होमकुण्ड के बाद रंग बिरंगे वस्त्रों से लिपटे इस भेढ को अकेले ही कैलाश  हिमनदों (ग्लेशियर)की ओर विदा कर दिया जाता है।  समुद्रतल से 3200 फुट से लेकर 17500 फुट की ऊंचाई क पहुंचने वाली यह 280 किमी लम्बी पदयात्रा 19 पड़ावों से गुजरती है। सम्पूर्ण यात्रा 19 दिनों तक चलती है और अंतिम पड़ाव होमकुण्ड पहुंचती है। इस कुण्ड में पिण्डदान और पूजा अर्चना के बाद चौसिंग्या खाडू को हिमालय की चोटियों की ओर विदा करने के बाद यात्रा नीचे उतरने लगती है। उसके बाद यात्रा सुतोल, घाट और नौटी लौट आती है।

इस लेख की लेखिका रेखा देवशाली उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जनपद से है। गांव के सरकारी स्कूल से और एक समाज सेविका तक का सफर संघर्षों से भरा हुआ रहा, एक माँ, बेटी, और पत्नी के कर्तव्यों के साथ समाज सेवा और  लेखन कार्य भी करती हैं।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here