वाराणसी में क्या खरीदें – उपहार या स्मृति चिन्ह

3
3081

वाराणसी के उपहार जैसा कि आप जानते हैं, हर वर्ष लोग भारी मात्रा में वाराणसी की यात्रा करतें हैं। उनकी यात्रा का हेतु चाहे धार्मिक हो, या सार्वजनिक, या कुछ और, वे वाराणसी व यहाँ की विशेषताओं से अछूते नहीं रह सकते। कशी यात्रा से हर कोई कुछ ना कुछ यादगार भेंट वस्तु अवश्य अपने साथ लाना चाहता है। मैं इस संस्मरण में वाराणसी की उन विशेष कलाओं व उनसे बनी वस्तुओं का उल्लेख करना चाहूंगी जो वाराणसी को सम्पूर्ण विश्व में प्रसिद्धि दिलाते हैं। मेरा विशवास है कि इसे पढ़ने के उपरांत आप वाराणसी यात्रा से इनमें से कुछ भेंट वस्तुएं अवश्य अपने साथ लायेंगे।

वाराणसी के प्रसिद्द उपहार

वाराणसी की पसंदीदा बनारसी रेशमी साड़ियाँ

बनारसी साडी
बनारसी साडी – कौन न मोहित हो जाये इन पे

आप वाराणसी जाएँ और प्रतिष्ठित बनारसी सिल्क साड़ी ना खरीदें, यह वाराणसी के साथ और आपके आस पास की महिलाओं के साथ नाइंसाफी होगी। बनारसी सिल्क या रेशमी साड़ी हर स्त्री का सपना होती है। मेरे जैसी भी, जो क्वचित ही साड़ी पहनती हो, अपने पास कम से कम एक बनारसी साड़ी अवश्य रखती है। इसलिए आप जब भी वाराणसी जाएँ, यह रेशमी साड़ियाँ अपने या अपने प्रियजनों हेतु उपहार स्वरुप अवश्य खरीदें।

आप इन रेशमी साड़ियों की खरीददारी वाराणसी में कहीं भी कर सकतें हैं। गंगा घाट पर तो बिचोलियों का तांतां लगा रहता है जो आपको विश्वसनीय साड़ी की दुकानों पर ले जाने का दावा करतें हैं। परन्तु मेरा सुझाव है कि आप स्वयं बुनकरों द्वारा इन साड़ियों को बुनते देखें और प्रत्यक्ष उन बुनकरों से यह साड़ियाँ खरीदें। इसके लिए आपको वाराणसी के पीली कोठी इलाके में जाना पड़ेगा। यहाँ भले ही सडकों पर चलना थोड़ा असुविधाजनक हो परन्तु आप बुनकरों की कुशल कारीगरी व कड़ी मेहनत देख गदगद हो उठेंगे।

आप बढ़िया बनारसी साड़ियाँ वाराणसी के घासी टोला में ठठेरी बाज़ार से भी खरीद सकतें हैं। थोक बाज़ार होने के कारण यहाँ बनारसी साड़ियों का उत्तम संग्रह बेहतर दामों पर उपलब्ध हैं। यहाँ भी आप को संकरी गलियों की थोड़ी तकलीफ उठानी पड़ सकती है। गलियाँ रिक्शा के हिसाब से भी बेहद संकरीं हैं। कई दुकानें पुरानी कोठियों में होने के कारण आपको साड़ियों के विभिन्न प्रकार देखने हेतु सीड़ियाँ चढ़नी उतरनी पड़ेंगी। फिर भी ज्यादा साड़ियों की खरीददारी हेतु यह एक उत्तम स्थान है।

बनारसी साड़ियों को ‘बनारसी जरी व साड़ियाँ‘ पंजीकरण के तहत जी.आई. अर्थात् भौगोलिक संकेत अधिकार प्राप्त है। इसके तहत बनारसी साड़ियाँ केवल वाराणसी में ही बुनी जा सकतीं हैं।

गंगाजल

गंगाजल
गंगाजल

यह अविश्वसनीय किन्तु सत्य है, कि गंगाजल वाराणसी से सर्वाधिक निर्यातित वस्तु है। आपके लिए भी यह एक उत्तम निशानी हो सकती है। घाट की तरफ जाते मार्ग पर दुकानदार हर आकार के प्लास्टिक डिब्बों व लोटों का अम्बार लगा कर बैठतें हैं। श्रद्धालु इन्ही डिब्बों में गंगाजल भर कर अपने साथ ले जातें हैं। आप तांबे के लोटों में सीलबंद किये गंगाजल भी ले सकतें हैं। छोटे छोटे यह तांबे के लोटे धर्मभीरु प्रियजनों के लिए एक उत्तम निशानी हो सकतीं हैं।

गंगा के घाट पर पानी की स्वच्छता देख शंका जरूर उत्पन्न होती है। इसी शंका के तहत मैंने भी डब्बा खोल कर पानी की स्वच्छता का अनुमान लगाने की कोशिश की। परन्तु दुकानदार ने मुझे विशवास दिलाया कि गंगाजल, नदी के घाट से दूर, मध्य बहाव में बेहद स्वच्छ है और वे वहीं से इन डब्बों को गंगाजल से भरतें हैं। अंततः यह अपनी अपनी श्रद्धा पर निर्भर है।

गुलाब मीनाकारी

गुलाबी मीनाकारी
गुलाबी मीनाकारी

आपने मीनाकारी कला के बारे में अवश्य सुना होगा। यह राजस्थान व गुजरात की बहुप्रचलित कला है, जहां सोने व ज्यादातर चाँदी पर रंगीन मीनाकारी की जाती है। परन्तु बहुत कम लोग इस तथ्य से अवगत होंगे कि वाराणसी में भी मीनाकारी की कला फल फूल रही है। अंतर सिर्फ इतना है कि वाराणसी में गुलाबी मीनाकारी अर्थात् गुलाबी रंग में मीनाकारी की जाती है। वाराणसी के कारीगरों का यह कौशल आप प्रत्यक्ष देख सकतें हैं गऊ घाट की संकरी गलियों में।

इससे पहले कि आप मीनाकारी की गईं वस्तुओं पर मोहित हों, मैं आपको इनकी कीमतों का अंदाज़ देना चाहूंगी। गुलाबी मीनाकारी से सज्जित एक गले के हार की कीमत १० लाख रुपयों से शुरू होती है। यदि आप पैसे खर्च करने के लिए तैयार हैं तो मीनाकारी किये गए जेवरों की खरीदी का गौरव प्राप्त कर सकतें हैं। और यदि आप मेरी तरह हलके खरीददार हैं तो आप मीनाकारी की गयी छोटी छोटी डिबिया यादगार स्वरुप खरीद सकतें हैं। छोटे छोटे पशुओ व पक्षियों के भी शिल्प उपलब्ध है जिन पर सुन्दर मीनाकारी की गयी है। खासतौर पर मीनाकारी व महीन नक्काशी से बने मोर व हाथी बेहद खूबसूरत हैं।

वाराणसी के ख़ास लकड़ी के खिलौने

खोजवा के लकड़ी के खिलोने
खोजवा के लकड़ी के खिलोने

वाराणसी की एक और खासियत है लकड़ी के खिलौने। वाराणसी में कई ऐसी गलियाँ हैं जहां लकड़ी के खिलौने बनाए जाते हैं। खोजवा भी ऐसी ही जगह है जहां आप ऐसे खिलौने बनाने वाले कारीगरों से मिल सकते हैं। वे ज्यादातर चटक रंगों में पशु पक्षियों के समूह बनाते हैं। आपको यहाँ लकड़ी के गुड्डे गुड़िया भी मिल जायेंगे। छोटे उपहार हेतु लकड़ी की कुंजी, पेंसिल इत्यादि भी उपलब्ध हैं।

मैंने जो खिलौना खरीदा उसकी संकल्पना कुछ हद तक रूसी गुड़िया अथवा मातृशका गुड़िया से साम्य रखती है। परन्तु यह भगवान् शिव व उनके परिवार से सम्बंधित है। इसमें पहले एक लकड़ी की अंडाकार डिबिया है जिस पर चटक रंगों में शिव का चित्र बना हुआ है। इस डिबिया को खोलने पर इसके अन्दर उसी आकार की परन्तु छोटी डिबिया है जिस पर पार्वती का चित्र बना हुआ है. इसी तरह तीसरी डिबिया पर कार्तिक व चौथी डिबिया पर गणेश के चित्र बने हैं।

वाराणसी के यह लकड़ी खिलौने सम्पूर्ण वाराणसी में हर जगह पर उपलब्ध हैं। मुझे वाराणसी विमानतल में भी कुछ सुन्दर लकड़ी के खिलौने मिले।

वाराणसी की रोगन लगी लकड़ी की कलाकारी के बारे में और जानिये ‘यहाँ’।

रोगन लगे लकड़ी के खिलौने व फर्नीचर भारत में और भी कई जगह उपलब्ध है, जैसे कर्नाटक में चन्नापट्टना, आन्ध्र प्रदेश में एतिकोप्पका और गुजरात में सानखेडा।

लाल पेडा

संकट मोचन मंदिर के पास लाल पेडा
संकट मोचन मंदिर के पास लाल पेडा

आप ने अब तक दो प्रकार के पेड़ों के बारे में जरूर सुना होगा और स्वाद भी चखा होगा। एक उत्तर भारत का मथुरा पेडा व दूसरा दक्षिण भारत का धारवाड़ पेडा। परन्तु बनारस के हर क्षेत्र में अपना अलग ही अंदाज होता है। इसलिए यहाँ का पेडा भी अपना अलग अंदाज व स्वाद लिए हुए है। इन पेड़ों को लाल पेडा कहा जाता है। यह इन दोनों पेड़ों का और ज्यादा भुना रूप होता है। इसलिए इसका रंग लाल व प्रकृति कुरकुरी होती है। घी से भरे पेड़ों में कई बार सूखे मेवे भी डाले जाते हैं।

इन पेड़ों  को आप प्रसिद्ध संकट मोचन हनुमान मंदिर के आसपास की दुकानों से खरीद सकतें हैं। यह गेदौलिया की कचौरी गली में स्थित मिठाई की दुकानों में भी उपलब्ध हैं।

मीठा खाने के शौकीन परिजनों व मित्रों के लिए यह एक उपयुक्त उपहार हो सकता है।

स्फटिक व पत्थर के शिवलिंग

स्फटिक एवं पत्थर में शिवलिंग
स्फटिक एवं पत्थर में शिवलिंग

मैं जब भी वाराणसी की यात्रा पर आती हूँ मेरे परिवारजन व मित्र मुझसे स्फटिक के शिवलिंग की फरमाइश करतें हैं। स्फटिक के शिवलिंग पूर्णतः पारदर्शी होते हैं। इन्हें घरों में पूजा जाता है। कई लोग इसे सौभाग्य के प्रतीक रूप मान हमेशा अपने पास रखते हैं।

यदि आप इन स्फटिक के शिवलिंगों को खरीदना चाहें तो आप प्रसिद्ध काशी विश्वनाथ मंदिर की ओर जाती विश्वनाथ गली में स्थित दुकानों से खरीद सकतें हैं। इन शिवलिंगों की ऊंचाई कुछ मिलीमीटर से कुछ इंचों तक हो सकती है। इनकी कीमत इनकी ऊंचाई पर निर्भर होती है। सबसे छोटा शिवलिंग करीब १०० रुपये में उपलब्ध है।

यहाँ पत्थरों के शिवलिंग भी बनाए व बेचे जातें हैं।

चूंकि काशी अर्थात् वाराणसी भगवान् शिव की नगरी है, स्फटिक या पत्थर के शिवलिंग वाराणसी की सर्वोत्कृष्ट निशानी या यादगार होतें हैं।

रुद्राक्ष माला

रुद्राक्ष माला
रुद्राक्ष माला

रुद्राक्ष एक फल का खुरदुरी सतह वाला बीज होता है। रुद्राक्ष यानी रूद्र के आंसू। रुद्राक्ष की उत्पत्ति रूद्र अर्थात् भगवान् शिव के आँखों के जलबिंदु से हुई है। रुद्राक्ष की माला सबसे प्राकृतिक व जैविक गहना है। हमारे साधु संत इसे सकारात्मक ऊर्जा हेतु अनंतकाल से धारण करते आ रहें हैं। सांसारिक जीवन में रह रहे हिन्दू भी इस पवित्र बीज को बड़ी श्रद्धा से धारण करतें हैं। किसी भी अस्वच्छ या अपवित्र स्थान पर इन्हें ले जाना वर्ज्य माना जाता है।

हालांकि वाराणसी के आसपास रुद्राक्ष के वृक्ष नहीं पाए जाते, परन्तु रुद्राक्ष की खरीदी हेतु वाराणसी सर्वोत्तम शहर है। इन रुद्राक्ष के बीजों को धागे में पिरो कर माला बनायी जाती है। वाराणसी में रुद्राक्ष की मालायें विभिन्न प्रकार व अनेक लम्बाईयों में उपलब्ध हैं। परन्तु १०८ पंचमुखी रुद्राक्ष की माला सर्वप्रसिद्ध है।

रुद्राक्ष कई प्रकार के होते है और इनका महत्त्व भी अलग अलग होता है। यह १ मुखी से १४ मुखी तक पाए जातें हैं। उदाहरणार्थ एक मुखी रुद्राक्ष भगवान् शिव का रूप, द्विमुखी रुद्राक्ष श्री गौरी-शंकर, पंचमुखी रुद्राक्ष सुख प्रदान करने वाला, इत्यादि माने जाते हैं। इनमें से कुछ प्रकार अत्यंत दुर्लभ हैं। यह रुद्राक्ष की माला वाराणसी की सर्वोपयोगी यादगार वस्तु हो सकती है। ले जाने में आसान, पहनने में आसान!

अटपटे आकार के रुद्राक्ष और विश्वनाथ मुद्राएँ
अटपटे आकार के रुद्राक्ष और विश्वनाथ मुद्राएँ

कुछ ऐसी भी मालाये होतीं हैं जिनका इस्तेमाल तांत्रिक कालाजादू में करतें हैं, जैसे मुंडमाला। गंगा घाट पर बिकने वाले मुंडमालाएं नकली हैं। असली मुंडमाला मुझे अपनी भूटान यात्रा के दौरान देखने मिली।

यहाँ धातु के सिक्के भी उपलब्ध है जिनके एक तरफ काशी विश्वनाथ मंदिर व दूसरी तरफ माता अन्नपूर्णा मंदिर के नक्काशीदार चित्र बने हुए हैं। यह विश्वनाथ के शहर की बेहतरीन यादगार साबित हो सकतें हैं।

कांच के मोती

कांच के मोती
कांच के मोती

क्या आप जानते हैं कि कांच के मोती बनाने का विश्व का विशालतम कारखाना वाराणसी में ही है! मैंने अपनी पिछली वाराणसी यात्रा के दौरान ऐसे ही एक कारखाने के दर्शन किये थे। कारखाने के विभिन्न तलों में फैले रंग बिरंगे कांच के मोतियों को देख मैं दंग रह गयी थी। खासकर हाथ से बनाए मोती तो बेहद खूबसूरत थे। प्रधानमन्त्री की ‘भारत में बनाओ’ योजना का एक बेहतरीन उदाहरण है यह कांच के मोतियों के कारखाने। हालांकि भट्टी के पास, जहां यह मोती बनाए जाते हैं, पर्यटकों का प्रवेश निषेध है परन्तु आप यहाँ से ये मोतियाँ खरीद जरूर सकतें हैं।

इन कांच की मोतियों से बने गहने भी बेहद खूबसूरत दिखाते हैं। उपहार स्वरुप इन्हें आप किसी भी स्मारिका की दुकान से खरीद सकतें हैं।

बांसुरी

बांसुरी विक्रेता - गंगा घाट पे
बांसुरी विक्रेता – गंगा घाट पे

संगीत बनारस के रग रग में बसता है। बनारस ने पंडित रवि शंकर, उस्ताद बिस्मिल्ला खान और गिरिजा देवी जैसे बहुमूल्य हीरे शास्त्रीय संगीत की दुनिया को प्रदान किये। भारतीय शास्त्रीय संगीत में बनारस घराने का विशिष्ठ स्थान है। आज भी वाराणसी की गली गली में शास्त्रीय संगीत के पंडित गाते, बजाते व बैठक सजाते दिखाई पड़ते हैं। यही वजह है कि वाराणसी में आपको कई संगीत वाद्यों की दुकानें नजर आएँगी। दूर दूर से लोग इन वाद्यों की खरीददारी हेतु वाराणसी आते हैं। वाराणसी की निशानी के रूप में आप भी कोई वाद्य यहाँ से खरीद सकते हैं। हालांकि वीणा, सितार जैसे बड़े वाद्य ले जाना असुविधाजनक हो सकते हैं परन्तु हर आकार में उपलब्ध बांसुरियां आसानी से खरीदी व ले जाई जा सकतीं हैं। संगीत की प्रेरणा देती यह निशानी आपको हमेशा वाराणसी की याद दिलाती रहेगी।

रामनामी कपड़े

रामनामी वस्त्र
रामनामी वस्त्र

वाराणसी में गंगा घाट की सैर के दौरान आपको कई साधु व श्रद्धालु ऐसे दिखेंगे जिन्होंने राम का नाम लिखे सफ़ेद या पीले वस्त्र धारण किये हुए हों। इनमें कुछ पर श्लोक, मन्त्र तथा देवी देवताओं के चित्र बने होते हैं। इन्हें रामनामी कपड़े कहते हैं। ऐसे रामनामी कुरते, अंगवस्त्र तथा दुपट्टे यहाँ दुकानों में बिकते नजर आतें हैं। मैंने भी यहाँ से एक रामनामी कपड़े की खरीददारी की थी। बनारस की आध्यात्मिकता से ओतप्रोत होते हुए भी यह आज के आधुनिक पहनावे में आसानी से घुलमिल जातें हैं।

पत्थरों पर खुदी कलाकृतियाँ

पत्थर की कलाकृतियाँ
पत्थर की कलाकृतियाँ

वाराणसी के शिल्पकारों का एक बड़ा समूह ऐसा भी है जिसने वाराणसी की पत्थरों को तराशने की कला को जीवित रखा है। वे पत्थरों पर बारीकी से खुदाई कर पशु, पक्षी व अन्य आकारों की सुन्दर कलाकृति तैयार करतें हैं। अक्सर यह कलाकृतियाँ बिना जोड़ के, दो परतों में की जाती है। बनारस में पत्थर पर खुदाई का इतिहास रहा है। अशोक स्तंभों में लगे नक्काशीदार पत्थर वाराणसी के निकट चुनार से लाये गए थे।

आप भी यहाँ से इन पशु पक्षियों की सुन्दर कलाकृतियाँ खरीद सकते हैं। पत्थर की जालीदार डिबिया सुगन्धित धूप इत्यादि रखने हेतु उत्तम व खूबसूरत उपहार हो सकती है।

इन कलाकृतियों की दुकानें मुझे वाराणसी शहर से ज्यादा सारनाथ में नजर आयीं।

भारतीय साहित्य

पुस्तक भंडार
पुस्तक भंडार

सदियों से वाराणसी कई भारतीय पुस्तकों के प्रकाशन के लिए प्रसिद्ध रहा है। भारतीय संस्कृति पर आधारित पुस्तकें जैसे वेद, पूरण, उपनिषद इत्यादि आसानी से उपलब्ध हैं। हालाँकि हिंदी की पुस्तकें यहाँ की विशेषता है, पर आप इन्हें अन्य भाषाओँ जैसे अंग्रेजी में भी खरीद सकते हैं।

मैंने अपनी हर वाराणसी यात्रा के दौरान इन परम्परागत दुकानों में पुस्तकों के साथ भरपूर समय बिताया। यहाँ से कई पुस्तकों की खरीददारी भी की। अपने पसंदीदा पुस्तकों की खरीदी कर आप भी अपने पुस्तकों के संग्रह में चार चाँद लगा सकतें हैं।

तो आप अपनी वाराणसी यात्रा से कौन सी यादगार अपने साथ लाना चाहेंगे?

यदि आपके पास वाराणसी की विशेष वस्तुओं से सम्बंधित कुछ और जानकारी है, या आप इन वस्तुओं की सूची में कुछ और जोड़ना चाहते हैं तो आपका स्वागत है।

काशी सम्बंधित अन्य यात्रा वृतांत

तुलसी अखाडा – तुलसी घाट वाराणसी

प्राचीन पंचक्रोशी यात्रा

जंगमवाडी मठ – सहस्त्र शिवलिंगों का संग्रह

हिंदी अनुवाद : मधुमिता ताम्हणे

3 COMMENTS

  1. वाराणसी का नाम आते ही रेशमी साडीयाँ आँखों के सामने आजाती हैं।अनु जी आपका यह लेख पढकर विश्वास ही नहीं हुआ कि वाराणसी मेंं यह सब भी मिलता है।महत्वपूर्ण जानकारी के लिए बहुत बहुत आभार…..।

    • शालिनी जी, वाराणसी हमेशा ही अचंभित करता है – जाने कितने गुर छिपे हैं इसमें. मैंने सपने में भी नहीं सोचा था की कांच के मोती काशी में बनते होंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here